Wednesday, October 15, 2014

किसकी देन है इस्लामिक आतंकवाद?

Subhash Gatade
एसोसिएटेड प्रेस के लिए लिखी अपनी लेखों की शृंखला के लिए पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित पत्रकार एडम गोल्डमैन तथा माट अपुजो इन दिनों बेहद खुश होंगे। दरअसल, न्यूयार्क पुलिस महकमे द्वारा चलाए जा रहे विवादास्पद मुस्लिम जासूसी कार्यक्रम का सबसे पहले उन्होंने भंडाफोड़ किया था और अब खबर आई है कि न्यूयॉर्क शहर के पुलिस विभाग ने अपनी विवादास्पद हो चुकी जासूसी इकाई ‘डेमोग्रेफिक यूनिट’ को अंतत: बंद करने का निर्णय लिया है जो मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाकर काम करती थी। न केवल उसके एजेंट मुस्लिम छात्र समूहों का हिस्सा बनते थे, मस्जिदों में अपने नुमाइंदों को भेजते थे, रेस्तरां, जिम या सैलून में जारी बातचीत को गुपचुप टेप करते थे और इसी के आधार पर सूचनाओं का विशाल भंडार संग्रहित करने में लगे थे। सालों तक इन सूचनाओं को एकत्रित करने के बाद भी वह आतंकवाद को लेकर एक अदद मामले में सूत्र देने में नाकामयाब रहे। अंतत: उसने स्वीकार किया कि समुदाय विशेष को निशाना बनाकर चलाई गयी गतिविधियों में उन्हें आतंकवाद को लेकर कोई सूत्र नहीं मिल सके।
           इसे महज संयोग कहा जा सकता है कि बदनाम हो चुकी न्यूयॉर्क पुलिस की इस विवादास्पद योजना को लेकर निर्णय तभी सामने आया है, जबकि हम तमिलनाडु पुलिस द्वारा ‘आतंकवादी निर्माण’ में निभायी भूमिका को लेकर नए तथ्यों से रू-ब रू (http://www.newindianexpress.com/states/tamil_nadu/Informer-Cop-Nexus-Behind-TN-Islamic-Fundamentalism/2014/04/11/article216) हैं। वैसे कितने लोगों को जनाब लालकृष्ण आडवाणी की तमिलनाडु की 2011 की यात्रा में उनके रास्ते में बरामद किए गए पाइप बम का किस्सा याद है? मदुराई में हुई इस घटना को लेकर अल्पसंख्यक समुदाय के दो लोगों को पकड़ा गया था और तमिलनाडु पुलिस ने यह दावा किया था कि उसने इस्लामिक अतिवादियों के एक बड़े नेटवर्क का पर्दाफाश किया है।
          फिलवक्त तमिलनाडु की उच्च अदालत में प्रस्तुत याचिका – जिसमें ऐसे तमाम बम धमाकों की उच्चस्तरीय जांच की मांग की गई है, पर तथा उसके लिए सबूत के तौर पर प्रस्तुत रिटायर्ड पुलिस अधीक्षक द्वारा भेजे गए गोपनीय पत्रों पर गौर करें तो एक अलग ही तस्वीर सामने आती है, जो मुस्लिम पुलिस मुखबिरों एवं गुप्तचर अधिकारियों के बीच मौजूद अपवित्र गठबंधन की तरफ इशारा करती है और उसी गठबंधन को इलाके में फैले इस्लामिक अतिवादी गतिविधियों का स्रोत बताती है। कुछ समय बाद ही न्यायमूर्ति सुबैया की अदालत इस याचिका को लेकर तथा इसमें पेश सबूतों पर गौर करने वाली है।
          गौरतलब है कि मदुराई जिले के पूर्व पुलिस अधीक्षक वी. बालाकृष्णन द्वारा इन गोपनीय पत्रोंं को डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस और अतिरिक्त डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस के नाम मार्च 2013 तथा अगस्त 2013 में अनुक्रम से भेजा गया था। अप्रैल माह के दूसरे सप्ताह में उच्च अदालत के सामने इन पत्रों को पेश किया गया। याचिकाकर्ता के वकील पीटर रमेश द्वारा मदुराई में हुए तमाम बम धमाकों की सीबीआई जांच की मांग की गई है। 29 मार्च 2013 को भेजे गए पत्र में पुलिस अधीक्षक महोदय ने सबूत पेश करते हुए कहा है कि किस तरह दो अभियुक्तों  सैयद वहाब और इस्मथ, दोनों के खिलाफ अवनीयापुरम पुलिस स्टेशन ने फिरौती का मामला दर्ज किया था- उसके चन्द रोज बाद ही इस मामले में भी उन्हें अभियुक्त बनाया गया, किसी विजय पेरूमल नामक हेडकांस्टेबल का उल्लेख करते हुए – जो मदुराई की सिटी इंटेलीजेंस विंग से जुड़ा है – पत्र में यह भी लिखा गया है कि किस तरह उसने वहाब के साथ मिलकर रियल इस्टेट के कुछ विवादास्पद मसलों में मध्यस्थता की थी और उन्हें निपटाया था।
           पुलिस अधीक्षक महोदय ने अगस्त 2013 में एक अन्य गोपनीय पत्र अतिरिक्त डीजीपी को भी भेजा था, जिसमें मन्दिरों की इस नगरी में इस्लामिक अतिवादियों द्वारा कथित तौर पर बम रखने की घटनाओं की जांच में मुब्तिला स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम के एक इंस्पेक्टर के तबादले का विरोध किया गया था। याचिकाकर्ता के वकील का कहना था कि यह घटनाएं इसी बात का प्रमाण पेश करती हैं कि किस तरह भ्रष्ट अधिकारियों की मिलीभगत से ही ऐसी घटनाएं हो रही हैं और उन्हीं की दखलंदाजी के कारण असली मुजरिम पकड़े नहीं जा सके हैं।
          निश्चित ही गुप्तचर अधिकारियों या पुलिस के लोगों द्वारा मुखबिरों के इस्तेमाल का यह कोई पहला प्रसंग नहीं है। याद कर सकते हैं कि मालेगांव 2006 का शबे बारात के दिन का वह बम विस्फोट, जिसमें कई निरपराध लोग मारे गए थे और इसके लिए जिम्मेदार ठहराते हुए कई मुस्लिम युवकों को छह साल से अधिक वक्त जेल की सलाखों के पीछे गुजारना पड़ा था। इस पूरे प्रसंग में अबरार अहमद नामक एक व्यक्ति की ‘गवाही’ सबसे अहम मानी गई थी, जो उस वक्त पुलिस के लिए काम करता था। बाद में उसने शपथपत्र देकर यह बताया कि किस तरह उसी ने इन लोगों को फंसाया है। इसके बावजूद उन निरपराधों को जेल से बाहर निकलने तथा उन पर लगाए गए मुकदमे समाप्त होने में दो साल से अधिक वक्त लगा था। एक क्षेपक के तौर पर यह बताया जा सकता है कि इस अपराध के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक असीमानंद तथा अन्य हिंदुत्व आतंकवादियों पर मुकदमे कायम हो चुके हैं।
          अभी पिछले ही साल प्रख्यात खोजी पत्रकार आशीष खेतान द्वारा डब्लू डब्लू डब्लू गुलैल डाट कॉम पर प्रस्तुत रिपोर्ट भी महत्त्वपूर्ण है, जिसमें इस बात का दस्तावेजीकरण किया गया है कि ‘गोपनीय फाइलें इस तथ्य को उजागर करती हैं जिसका मुसलमानों को पहले से संदेह रहा है : यही कि राज्य जान-बूझकर निरपराधों को आतंकवाद के आरोपों में फंसा रहा है।‘ जबकि इलाकाई मीडिया में या उर्दू मीडिया में इस रिपोर्ट को काफी अहमियत मिली, मगर राष्ट्रीय मीडिया ने एक तरह से खेतान के इस खुलासे को नजरअंदाज किया कि किस तरह आधे दर्जन के करीब आतंकवाद विरोधी एजेंसियों के आंतरिक दस्तावेज इस बात को उजागर करते हैं कि राज्य जान-बूझकर मुसलमानों को आतंकी मामलों में फंसा रहा है और उनकी मासूमियत को परदा डाले रख रहा है।
          पत्रकार ने ‘आतंकवाद केंद्रित तीन मामलों की-7/11 ट्रेन बम धमाके, पुणे; पुणे जर्मन बेकरी विस्फोट और मालेगांव धमाके 2006 की जांच की है और पाया है कि इसके अंतर्गत 21 मुसलमानों को यातनाएं दी गईं, अपमानित किया गया और बोगस सबूतों के आधार पर उन पर मुकदमे कायम किए गए। जब उनकी मासूमियत को लेकर ठोस सबूत पुलिस को मिले, तब भी अदालत को गुमराह किया जाता रहा।’
          हमारे अपने वक्त में सूबा गुजरात आतंकवादियों की बरामदगी के बारे में नए-नए रिकॉर्ड कायम कर चुका है।  गुजरात पुलिस विभाग के डीआईजी बंजारा के नेतृत्व में तो ऐसे तमाम ‘आतंकवादियों’ को पकड़कर पुलिस ने मार गिराया, जिनके बारे में कहा गया कि यह लोग मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को मारने के लिए पहुंचे थे। उदाहरण के लिए जिन दिनों बंजारा डीआईजी पद पर विराजमान थे, उन दिनों मोदी सरकार द्वारा ‘आतंकवाद विरोध’ के नाम पर तय की गई कार्रवाई योजना/एक्शन प्लान का खुलासा हुआ था, इसका स्वरूप ऐसा था कि गुजरात पुलिस की इस योजना ने प्रदेश के धार्मिक अल्पसंख्यकों विशेषकर मुसलमानों को नए सिरे से आतंकित किया था।
          बंजारा के कार्यकाल में 9 मुठभेड़ों में पंद्रह लोग मारे गए थे। सोहराबुद्दीन शेख-कौसर बी के फर्जी एनकाउंटर में सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप में जब विशेष कार्य बल ने जांच की तो यह बात सामने आई कि किस तरह मेडल और ट्राफियां बटोरने के लिए जनाब बंजारा और गुजरात एवं राजस्थान पुलिस के उनके समानधर्मा अफसरों ने ऐसे कई कांडों को अंजाम दिया था।
           इन्हीं मुठभेड़ों में एक चर्चित किस्सा था मार्च 2003 में गुजरात पुलिस के हाथों मारे गए एक साधारण शख्स सादिक जमाल की मौत का, जिसे ‘लश्कर-ए-तय्यबा’ का आतंकवादी कहकर – जो कथित तौर पर मोदी, तोगड़िया और आडवाणी को मारने के लिए पहुंचा था – गुजरात पुलिस द्वारा फर्जी मुठभेड़ में मार दिया गया था। जांच में पता चला कि सादिक के हाथों से जो पिस्तौल बरामद दिखाई गई थी वह .32 बोर की थी, जबकि इस पिस्तौल से कथित तौर पर जो गोलियां पुलिस पर चलाई गई थीं वे .38 बोर के पिस्तौल से निकली गोलियां थीं। सादिक के शरीर पर यातना दिए जाने के निशान मौजूद थे, उसके शरीर पर कुछ घाव भी बने थे जिन्हें बिना इलाज के छोड़ा गया था।
          यह जानी हुई बात है कि बंजारा एवं उसके सहयोगी 31 अन्य पुलिस अफसर उन 15 फर्जी मुठभेड़ों के चलते जेल की सलाखों के पीछे हैं, जिन्हें गुजरात पुलिस ने 2004 से 2007 के दरम्यान अंजाम दिया। गौरतलब है कि इन्हें अंजाम देने का तरीका एक जैसा ही था, फिर चाहे इशरत जहां एवं उसके साथ मारे गए तीन अन्य लोगों की हत्या हो; सोहराबुद्दीन शेख की हत्या हो या फिर सादिक जमाल मेहतर की हत्या। यह सभी मुठभेड़ें  रात के वक्त हुईं और ‘आतंकियों’ के तमाम ‘आधुनिक ऑटोमेटिक हथियारों से लैस होने’ के बावजूद (जैसा कि बाद में बताया गया) पुलिस बल को खरोंच तक नहीं आई। ऐसी हर मुठभेड़ के बाद यही बताया गया कि यह लोग जनाब मोदी एवं उनके सहयोगियों को खत्म करने के लिए आए थे।
         पिछले साल बंजारा ने जेल से ही इस्तीफे की घोषणा करते हुए एक पत्र जारी किया था। अपने दस पेज के इस्तीफे के पत्र में जनाब बंजारा ने कई महत्त्वपूर्ण बातें कहीं थीं। कहीं भी वह इन हत्याओं पर पश्चात्ताप प्रकट नहीं करते, बल्कि यकीं करते हैं कि इन्हीं के चलते गुजरात में बाद में आतंकी हमले नहीं हुए। उनके मुताबिक ‘गुजरात के विकास मॉडल’ की कामयाबी ‘वे और उनके अफसरों की कुर्बानी पर ही टिकी है।‘
          इस अभूतपूर्व परिस्थिति पर अपनी राय प्रकट करते हुए कि उनके सहयोगी 31 अन्य पुलिस अधिकारी जेल की सलाखों के पीछे हैं, जिनमें से कई आईपीएस रैंक के भी हैं, वह बताते हैं कि 2002 से 2007 के दरम्यान वे या उनके जैसे अधिकारियों ने ‘सरकार की सचेत नीति के अनुरूप ही काम किया’ और इसके बावजूद उनके राजनीतिक आंकाओं ने उनके साथ विश्वासघात किया। पत्र में नरेंद्र मोदी एवं अमित शाह – जो गृहराज्यमंत्री रह चुके हैं – को निशाना बनाया गया है। इसमें भले ही अमित शाह पर अधिक गुस्सा प्रकट होता दिखता है, मगर मोदी को लेकर भी उसमें कोई मुगालता नहीं है। कभी मोदी को ‘खुदा’ समझने वाले बंजारा उन पर खुलकर हमला करते हुए कहते हैं कि ‘वे दिल्ली की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।‘ जेल में बंद उन पुलिस अधिकारियों के बारे में बिना सोचे, जो उनके आदेशों का ही पालन कर रहे थे।
          सोहराबुद्दीन, तुलसीराम, सादिक जमाल और इशरत जहां मुठभेड़ मामलों की जांच में मुब्तिला सीबीआई जांच अधिकारियों को चाहिए कि वह उन नीति-निर्माताओं को भी गिरफ्तार करें, जिनकी सचेत नीति को हम अधिकारी अमल में ला रहे थे… मेरा साफ मानना है कि इस सरकार की जगह गांधीनगर में होने के बजाय तलोजा सेंट्रल जेल या साबरमती सेंट्रल जेल में होनी चाहिए।
          इसमें कोई दोराय नहीं कि इस पत्र के अचानक नमूदार होने से मोदी एवं अमित शाह दोनों ही बचावात्मक पैंतरा अख्तियार करने के लिए मजबूर हैं। अपनी तुरंत प्रतिक्रिया में सीबीआई ने भले ही कहा हो कि इस इस्तीफे का ‘राजनीतिक मूल्य’ है, मगर उसने इस बात पर गौर नहीं किया है कि बंजारा का बयान अभियोजन पक्ष को और मजबूत बना सकता है। इस पत्र की कॉपी सीबीआई को भी भेजी गई है और वह चाहेगी तो पत्र में किए गए आरोपों को लेकर स्पष्टीकरण के लिए वह बंजारा को बुला सकती है, ताकि यह जाना जा सके कि आखिर हुकूमत में बैठे लोग किस तरह इन मुठभेड़ों में ‘शामिल’ थे। एक क्षेपक के तौर पर यहां यह बताया जा सकता है कि कुछ समय पहले जब इशरत जहां का मामला सुर्खियों में था, तब सीबीआई ने बताया था कि उसके पास एक अभियुक्त पुलिस अधिकारी का बयान मौजूद है, जिसमें टेप पर यह दावा किया गया है कि  बंजारा ने उन्हें बताया था कि मामले की जानकारी सफेद दाढ़ी (संकेत मोदी की तरफ) और काली दाढ़ी (संकेत अमित शाह) को दी गई है।
          यह 90 के दशक के मध्य में महाराष्ट्र में कायम शिवसेना-भाजपा हुकूमत का किस्सा है, जब पुलिस ने एक ‘पाकिस्तानी एजेंट’ को पकड़कर मीडिया के सामने पेश किया था और यह दावा भी किया था कि उपरोक्त व्यक्ति बाल ठाकरे की हत्या करने के लिए आया था। यह जुदा बात है कि इसी प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद ‘एशियन एज’ के एक पत्रकार को यह बात याद रही कि इसी शख्स को कुछ ही दिन पहले ठाणे की स्थानीय अदालत में हत्या के एक मामले में अभियुक्त के तौर पर पेश किया गया था। अपनी जिज्ञासा को शांत करने के लिए उसने पुलिस प्रवक्ता से इस संबंध में कुछ प्रश्न भी पूछे। लाजिम था कि प्रवक्ता हक्का-बक्का रह गया था। बाद में इस मामले को गुपचुप दफना दिया गया और जनतंत्र का प्रहरी होने का दावा करने वाले मीडिया ने भी इस मसले पर खामोशी बरकरार रखी।
                                                                                                        समयांतर से साभार

Friday, October 10, 2014

नोबेल शांति विजेता कैलाश सत्यार्थी का इंटरव्यू

साल 2012 में प्रभात खबर के बचपन बचाओ कॉलम के लिए कैलाश सत्यार्थी से एक छोटी सी बात की थी। कैलाश सत्यार्थी और मलाला यूसुफजई को नोबेल शांति पुरस्कार दिये जाने की घोषणा के साथ ही उन्हें ढेरों मुबारकबाद देते हुए उनका इंटरव्यू साझा कर रहा हूं।

हमारे वर्तमान समाज में बच्चों के प्रति मां-बाप का रवैया असहिष्णु होता जा रहा है. अभिभावकों में मित्रभाव का अभाव बच्चों को उनसे दूर ही नहीं, उनका बचपन छीन रहा है. हालांकि इसके समाजार्थिक कारण ये हैं कि मध्यवर्गीय तबके में एकल परिवारों का चलन बढ़ा है, जिससे बच्चे एकाकीपन के शिकार होकर हिंसा की ओर बढ़ने लगे हैं. स्कूल से आने के बाद वे घर में अकेले होते हैं तो सिर्फ टीवी देखते हैं या फिर विडियोगेम खेलते हैं. यह सिर्फ भारत ही नहीं, पूरी दुनिया में इस पर बहस जारी है. आज अमेरिका, नीदरलैंड, आॅस्ट्रेलिया जैसे विकसित देश भी इस बात से बेहद चिंतित हैं कि उनके बच्चे क्यों बड़ों जैसे व्यवहार कर रहे हैं. और क्यों वे छोटी सी उम्र में ही इतने हिंसक हो रहे हैं. मसला यह है कि एकाकीपन बढ़ने से बच्चों में संवादहीनता बढ़ रही है. बच्चों के न बोल पाने से उनके साथ हुई हिंसा को भी वे किसी से शेयर नहीं कर सकते. यही उनके मन में कहीं घर की हुई रहती है जो एक वक्त आने पर बाहर आ जाती है. ऐसे में बचपन बचाने की मुहिम के मद्देनजर पूरी दुनिया ने जो महसूस किया है वह है बुजुर्गों की हमारे घरों में मौजूदगी की जरूरत.
आप गौर करेंगे तो पायेंगे कि भारत के मध्यवर्ग में ज्यादातर एकल परिवार हैं. वे अपने बुजुर्गों को गांव या पुश्तैनी जगहों पर छोड़ देते हैं और घर में एक नौकर रख लेते हैं. वह नौकर, लड़का हो या लड़की, जो आर्थिक तंगी का शिकार होता है, उसके साथ बच्चा अपनी बात कैसे शेयर कर सकता है. इसलिए जरूरी है कि हम अपने बुजुर्गों की ओर लौटें. किसी भी घर के लिए बुजुर्गों का साथ बच्चों को मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक सुरक्षा दे सकता है. इसे हमें बहुत गौर से सोचने की जरूरत है. और कोई चारा नहीं है जिससे हम अपने बच्चों का मासूम बचपन संभाल सकें. क्योंकि बच्चे और बूढ़े दोनों की संवेदनाएं कहीं न कहीं मिलती हैं, जो उन्हें एक दूसरे की संवेदनाओं को शेयर करने में मदद करती हैं. बुजुर्ग अच्छी चीज को अपनाने और बुरी चीज को नकारने की सलाह देते हैं.

Tuesday, September 16, 2014

शुद्ध हिंदी

हमने हिंदी के कट्टर समर्थकों की बात अंतत: मान ली
अगले दिन से ही अंग्रेजी और उर्दू के शब्दों का
हिंदी में घालमेल न करने की ठान ली

सुबह उठते ही मैंने
नेत्र स्थित, नासिका चिपटित, द्विकर्णधारित, 
नेत्र दोष निवारक पारदर्शक यंत्र अर्थात्
चश्मा अपनी आंखों पर लगाया
तत्पश्चात दंत स्वच्छकारक दंडिका तथा
श्वेत नील धारी धारक दंत लेप से
अपनी दंतावली को स्वच्छ किया एवं चमकाया
एक कप चाय के लिए पत्नी को शयन कक्ष में बुलाया- 
‘‘हे प्रिये, एक पक्व मृतिका के पात्र में 
शर्करा युक्त, दुग्ध मिश्रित, पर्वतीय पत्तियों का 
अति उष्म पेय पदार्थ प्रेषित कर दो मेरी रानी’’
पत्नी बोली- ‘‘सुबह-सुबह शुरू हो गये, ये नयी कविता है या कहानी’’

शुद्ध हिंदी बोलने की सौगंध ले रखी थी
इसलिए कुछ काम ध्वनि द्वारा तो कुछ संकेतों में निपटाया
घर से निकलकर दिल्ली जाने वाली बस में आया
और कंडक्टर से कहा, ‘‘हे संवाहक महोदय, 
इंद्रप्रस्थ नगरी प्रस्थान करने हेतु समुचित मूल्य का
एक वैधानिक यात्रापत्र हमें तुरंत सुलभ करवाइए’’
कंडक्टर ठेठ हरियाणवी था, सीटी बजाकर ड्राइवर से बोला-
‘‘गलत रूट की सवारी है, ब्रेक मारकर उतार दो’’
हमने कहा- ‘‘महोदय, वाहन मत रोकिए, 
जहां आप कह रहे हैं, हमें वहीं है जाना’’
कंडक्टर बोला- ‘‘तू आगरे क्यों नहीं चला जाता,
वहीं है मशहूर पागलखाना’’

हमारे पड़ोसी यात्री ने सिगरेट सुलगाकर एक गहरा कश लगाया
हमने तत्काल शोर मचाया- 
‘‘हे संवाहक महोदय, यह व्यक्ति
श्वेत धूम्रदंडिका का अनाधिकृत दहन करके
इसका अवांछित धूम्र हमारी नासिका पर प्रक्षेपित कर रहा है
इसके मस्तिष्क में न चिंतन है, न मनन है
यह परिवहन नियमावली के विरुद्ध
हमारे मौलिक अधिकारों का साक्षात हनन है
मेरा निकटस्थ यात्री, पर्यावरण प्रदूषित समस्त कर रहा है
संविधान के मूल ढांचे को ध्वस्त कर रहा है’’
कंडक्टर बोला- ‘‘बैठ जा बैठ जा, 
इसने कौण सी गौरी मिसाइल की पूंछ में आग लगा दी
एक सिगरेट ही तो सुलगाई है
इतना शोर तो अमेरिकन टावरां के गिरने पर भी नहीं मच्या
जितनी हाय-तौबा तूने इस धूएं पर मचाई है’’

दिल्ली पहुंचकर हमने एक रिक्शे वाले को
जिलाधिकार समीप स्थित सामुदायिक केंद्र चलने को कहा
वह दो-चार लोगों से पूछने के बाद हमसे सीधा टकराया
‘‘तुम्हें कम्युनिटी सेंटर जाना है, तो सीधे-सीधे भी तो बता सकते थे
अंग्रेजी बोलनी जरूरी थी, हिंदी में भी तो बता सकते थे’’

नोट : यदि हिंदी की भागीरथी को आप समुद्र नहीं बना सकते, तो इसे संकुचित करके छोटा नाला मत बनाइए. इसमें उर्दू और संस्कृत की यमुना और अलकनंदा को मिलने दीजिए. अंग्रेजी जैसे छोटे झरनों पर भी बांध मत बनाइए. क्योंकि सैकड़ों नालों और नदियों के मिलने के बाद ही भागीरथी पवित्र गंगा बन पायी है. हमने दूसरी भाषाओं के शब्दनदों को हिंदी की हदों में आने से रोका है. इसलिए हिंदी आज तक हिंदी रही है. जन-जन की पवित्र हिंदुस्तानी गंगा नहीं बन पायी है.

Wednesday, September 10, 2014

आलू-प्याज़ की बोरी हैं लड़कियां

सही कहा तुमने
अब कोई जोधाबाई
किसी अकबर के घर नहीं जायेगी
और न फिर से
कोई दीन-ए-इलाही पैदा होगा
जहां धर्मों से ऊपर होता है एक इंसान।

मगर मेरे दोस्त, तुम यह भूल गये
के फिर कोई हुमायूं
किसी कर्मावती की हिफाज़त की
कसम नहीं खायेगा कोई
और न फिर कहीं किसी
रक्षाबंधन की बुनियाद ही पड़ेगी...
सही कहा कि अब कोई जोधाबाई
किसी अकबर के घर नहीं जायेगी।

सिकंदर अपनी बेटी तुम्हें दे जायेगा या नहीं
यह तो मुझे नहीं मालूम
पर इतना जरूर मालूम है कि तुम्हारी बेटियां
भले ही आसाराम जैसों की शिकार हो जायें
उन्हें उस राक्षस के पास भेजने में
तुम्हें कोई ऐतराज़ नहीं होगा
क्योंकि वह नुमाइंदा है तुम्हारे धर्म का।

बलत्कृत हो रही हैं
तो होती रहें ये लड़कियां
तुम्हारे मंदिर-ओ-मस्जिद तो सलामत हैं!
खुदकुशी कर रही हैं, तो करती रहें
तुम्हारे दीन-ओ-धरम तो सालिम हैं!
तुम्हारे खुद के हाथों
अगर वो मर रही हैं, तो मरती रहें
तुम्हारे किताबों पर तो कोई आंच नहीं!
उनके मरने, लुट जाने से
तुम्हें कोई फर्क नहीं पड़नेवाला
क्योंकि यह तुम्हारे धर्म का मामला नहीं है।

दरअसल, ग़लती तुम्हारी नहीं है
क्योंकि, तुम्हारी धर्म की ठेकेदारी
औरत की इज्ज़त पर ही टिकी है
तुम्हारे लिए औरतें और लड़कियां
महज आलू-प्याज़ की ऐसी बोरियां हैं
जिन्हें तुम अपने मन-भाव में
धर्म-जाति, शरिया-गोत्र की मंडियों में
बेझिझक बेच सकते हो
जो चाहे, क़ीमत लगा सकते हो उनकी
और इसी क़ीमत से तुम
पुरुष सत्ता के भुरभुरे खंभों को
मज़बूत बनाते रहने की
नाकाम कोशिशें करते रहते हो।

कितने ओछे और कमज़ोर हैं तुम्हारे धर्म
जो मासूम प्रेम की चुनौती भी स्वीकार नहीं कर पाते
और गिरने लगते हैं भरभराकर
तुम इसमें दब के मर न जाओ
इसलिए औरत का सहारा लेते हो
कितनी कमज़र्फ है तुम्हारी मर्दानगी
जिसकी इज्ज़त की हिफाज़त भी नहीं कर सकती
उसी के सहारे
तुम अपने धर्मों की ठेकेदारी करते हो।

बिल्कुल सही कहते हो तुम मेरे दोस्त
अब कोई जोधाबाई
किसी अकबर के घर नहीं जायेगी...

Thursday, July 10, 2014

हमारी दिल्ली।

अंधेरे में डूबी हमारी ये दिल्ली।
अच्छे दिनों की है मारी ये दिल्ली।।
शतरंज के काले खानों में बैठे।
सेवेन रेसकोर्स की दुलारी ये दिल्ली।।
Power Cut in Delhi
काले रुपइये पर गंदी सियासत।
है नेताओं की दीनदारी ये दिल्ली।।
ग़ालिब की गलियों की अफ़सुर्दा रातें।
लूटियन इलाकों पे वारी ये दिल्ली।।
कहां शौक के कोई खुशियां समेटे।
बलात्कार की बेक़रारी ये दिल्ली।।
पहले मुहब्बत सिखाती है लेकिन।
है एहसास की कारोबारी ये दिल्ली।।
बेदिल की दिल्ली है, दिल्ली है बेदिल।
ज़ख़्मी तिजारत की प्यारी ये दिल्ली।।


Gali Qasim Jaan, Delhi

Tuesday, May 27, 2014

चम्मचों में बंटे वामपंथ को कड़ाही बनना होगा

Atul Kumar Anjan and Wasim Akram
सोलहवीं लोकसभा के लिए हुए आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की ऐतिहासिक जीत के साथ ही कई छोटी पार्टियों की बुरी हार हुई है। वामपंथी पार्टियां भी उनमें शामिल हैं। वाम मोरचे के गिरते हुए जनाधार को देखते हुए ऐसा माना जा रहा है कि वामपंथ अब ​हाशिये पर चला जायेगा। वामपंथी आंदोलन भारतीय राजनीति की एक महत्वपूर्ण धारा है, लेकिन पिछले कुछ समय से वामपंथी पार्टियां चुनावी अखाड़े में लगातार हाशिये पर जा रही हैं और उनके जन-संगठन भी कमजोर होते जा रहे हैं। इस बार के लोकसभा चुनावों में एक ओर जहां दक्षिणपंथी भाजपा व उसके सहयोगी दलों को भारी जीत हासिल हुई है, वहीं वाम मोरचे को गिनती की सीटें मिली हैं। वामपंथी राजनीति के वर्तमान और भविष्य के विभिन्न पहलुओं पर हमने अपने छात्र-जीवन से ही वामपंथी राजनीति में सक्रिय, वर्तमान में कम्यूनिस्ट पार्टी आॅफ इंडिया (सीपीआइ) के राष्ट्रीय सचिव, अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव और एक तेज-तर्रार एवं मुखर राजनेता कॉमरेड अतुल कुमार अंजान से प्रभात खबर के लिए बात की...


1-  भाजपा की अप्रत्याशित जीत और कांग्रेस की ऐतिहासिक हार के साथ इस चुनाव में वामपंथी दलों को भी भारी हार हुई है. गरीब-किसानों की पार्टी कहे जानेवाले वाम के जनाधार कम होने के क्या कारण हैं, जबकि देश में अब भी गरीबों की ही ज्यादा संख्या है?
          हमारी पार्टी गरीब-किसानों की पार्टी है, मजदूर और हाशिये पर पड़े लोगों की पार्टी है, अल्पसंख्यकों की पार्टी है, लेकिन अब सिर्फ गरीब-गरीब कहने से ही काम नहीं चलनेवाला है. अब जरूरत है उनके भावनाओं के साथ जुड़ने की. उनके अंदर जो परिवर्तन हो रहा है, उस परिवर्तन को अगर बारीकी से हम नहीं देखेंगे, और उस आधार पर कोई ठोस रणनीति नहीं बनायेंगे, तो वे सिर्फ हमारे नाम के लिए थोड़े हमें वोट देने जायेंगे. डायनॉमिजम और डायनॉमिक्स दोनों अलग-अलग चीजें हैं. हमारे यहां जो डायनॉमिक्स में बदलाव आ रहा है, उसके लिए एक नये डायनॉमिजम की जरूरत है.

2-  तो किस तरह का होना चाहिए वह डायनॉमिजम?

         मोर कनेक्ट टू मोर प्यूपिल... यानी गरीबों-किसानों के साथ परस्पर जुड़ाव जरूरी है. उनके साथ सहभागिता और उनके मुद्दों पर गहरी विवेचना करने की जरूरत है. वर्षों से चली आ रही पार्टी की रस्म अदायगी को छोड़ कर उनके एहसास में रच-बस जाने का दौर है. और सबसे ज्यादा जरूरी है दीर्घकालिक संघर्ष चलाना.

3-  लेकिन ये सब तो इस चुनाव में होने चाहिए थे. तो आखिर क्यों नहीं किया आपने और आपकी पार्टी ने?

        सब हो रहा था, लेकिन उसका इतना असर नहीं पड़ा. अब क्या कीजियेगा! हम लोग मूर्ख नहीं हैं. हमने पूरे आठ साल से संघर्षरत होकर पॉस्को को रोका हुआ है. ये बात और है कि इस चुनाव में उस संघर्ष का प्रतिफलन नहीं हुआ. क्योंकि संघर्ष एक अलग चीज है और चुनाव एक दूसरी चीज है. यह भी अब एक नयी परिभाषा आ गयी है. चुनाव के लिए संघर्ष आपका एक आधार बन सकता है, लेकिन चुनाव में अब जाति, धर्म और संकीर्णताओं की मूख्य भूमिका होने लगी है. धन की भूमिका तो है. अब इन तीनों से हम कैसे निपटें? इन तीनों का कम्यूनिस्ट पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है. जिस दिन हम इन तीनों के साथ जुड़ जायेंगे, उस दिन हम कम्यूनिस्ट पार्टी नहीं रह जायेंगे.

4-   भाजपा को पूर्ण बहुमत मिला है. माना जा रहा है कि देश ने ऐसा जनादेश विकास के वायदों पर दिया है. अगर उन वायदों को पूरा करने में कोई कोर-कसर होगी, तो क्या भाजपा की इस प्रचंड विजय के बाद भारत की राजनीति गैरकांग्रेसवाद से अब गैरभाजपावाद की ओर रुख करेगी?

          इस मामले में कुछ चीजें बहुत महत्वपूर्ण है. उनमें से एक है देश में बदलाव की भावना. कांग्रेस कहती है कि उसने अच्छी-अच्छी नीतियां बनायी, लेकिन वह देश को बता नहीं पायी. तो सवाल है कि आपको किसने कहा था कि आप जनता को मत बताइये. आप कनेक्ट नहीं हो पाये, क्योंकि आप कलेक्ट करते रहे. जनता से कनेक्ट होना आपकी प्राथमिकता में थी ही नहीं. आप सिर्फ मलाइदार तबकों और देश के कॉरपोरेट घरानों से कलेक्ट करने में लगे थे. तो जब आप माल कलेक्ट कर रहे थे, तो हम जनता से कनेक्ट कैसे होते? कारण, आपने गैस, डीजल, तेल आदि के दाम बढ़ा दिये. आपने डाई के दाम 260 रुपये से बढ़ाके 1200 रुपये कर दिया, इसका क्या औचित्य है? देश के किसानों को तो कांग्रेस ने अपने खिलाफ कर दिया. चलते-चलते यूरिया के दाम भी 28 सौ रुपये टन कर दिये. एक साल में साढ़े आठ रुपये डीजल के दाम बढ़ाये. अब यह कैसे उम्मीद की जा सकती है कि किसान-मजदूर आपके साथ खड़े होंगे. आप लगातार ऐसे-ऐसे समझौते कर रहे हैं, जिससे विदेशी सामान हमारे बाजारों पर कब्जा करते जा रहे हैं. आज हिंदुस्तान के हर घर में चाइनीज उत्पाद मिलते हैं. अगर आज चीनी टॉर्च न हो तो गांव के लोग ठीक से खाना भी न खा पायें, क्योंकि गांव में बिजली मिलती नहीं और शहरों में भी गायब रहती है. राधा जी को कृष्ण जी पिचकारी से रंग डाल रहे हैं, यह भी चीन से बन के आ गया. मक्का-मदीन के पोस्टर चीन से आने लगे. शिवलिंग भी चीन के ही बिक रहे हैं. दीवाली पर अब कोई मिट्टी का दिया नहीं जलाता, बल्कि 20-30 रुपये में इलेक्ट्रॉनिक दिये की लड़ी मिल जाती है. कांग्रेस ने जो 312 नयी फ्री ट्रेड समझौते किये हैं, जो 2014-15 से लागू होंगे, जिसके तहत विदेशों से कटी-कटाई सब्जियां आयेंगी, फल आयेंगे आदि, तो क्या इससे लोग कनेक्ट हो पायेंगे. पूरा का पूरा देश का लघुउद्योग खत्म हो गया और इस मामले में यानी आर्थिक नीति के मामले में भाजपा-कांग्रेस दोनों एक जैसी ही हैं. इन दोनों में कोई फर्क नहीं है, क्योंकि आज से छह साल पहले आडवानी जी ने कहा था कि भाजपा की आर्थिक नीतियों को कांग्रेस ने चुरा लिया है. आर्थिक मामलों में इन दोनों पार्टियों के प्रेरणास्रोत विश्व बैंक, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और एशियन डेवलपमेंट बैंक हैं. अमेरिका का मोदी को वीजा देने न देने का नारा दिखावटी है और मोदी भी दिल से भले हिंदुस्तानी हैं, लेकिन मन से अमेरिकी हैं. फिर भी अभी मैं यह नहीं कहूंगा कि देश की राजनीति अब गैरभाजपावाद की ओर रुख करेगी कि नहीं, क्योंकि अभी यह देखना बाकी है. लेकिन, इतना जरूर कहूंगा कि---
उसकी बातों पे न जा कि वो क्या कहता है।
उसके पैरों की तरफ देख वो किधर जाता है।।

5-   नरेंद्र मोदी देश के विकास को आंदोलन का रूप देने की बात कहते हैं. क्या लगता है आपको?

        उनके भाषण बहुत अच्छे होते हैं, जो ठीक ही है, और उनका हाव-भाव भी बहुत ही अच्छा होता है, लेकिन उनका भाषण इल्मी कम और फिल्मी ज्यादा लगता है. क्योंकि अगर इल्मी होता तो तक्षशिला को पटना के तट पर न पहुंचा देते. बहरहाल मैं ज्यादा कुछ न कह कर इतना ही कहूंगा कि अभी उन्हें सरकार चलाना तो शुरू करने दीजिए. आगे देखेंगे कि क्या कहा जा सकता है. लेकिन आजकल ड्रामा बहुत हो रहा है. कहा जा रहा है कि तीस साल के बाद पहली बार भाजपा को पूर्ण बहुमत मिला है. आखिर क्यों? ऐसा कहना क्या अटल विहारी बाजपेयी की लिगेसी को किनारे करना नहीं है? आपको यह कहना चाहिए कि यद्यपि हम पूर्ण बहुमत के साथ पहली बार आये हैं, लेकिन इसके पहले हम अटल जी के नेतृत्व में पहले गठबंधन के साथ बहुमत में आ चुके हैं. ऐसा कहना आपकी राजनीतिक ईमानदारी का यथार्थ प्रस्तुतिकरण होता. तीस साल बाद आने की बात कहने का अर्थ है कि आप अपनी आत्मश्लाघा में, खुद को महिमामंडित करने में उन तमाम लोगों की जड़ों को खोद रहे हैं, जिनके सहारे आप चढ़े थे, चाहे केशूभाई पटेल हों या अटल बिहारी वाजपेयी हों.

6-   इस हार के बड़े सबक वामपंथी दलों के लिए क्या हैं. बंगाल में लगातार सिकुड़ता जनाधार जबकि केरल और त्रिपुरा में बरकरार, ऐसा क्यों है?

        यही बहस 2004 में भी चली थी कि वाम मोरचे को लोकसभा में 63 सीट कैसे मिल गयी. जब हम जीत जाते हैं, तो ज्यादा गुदगुदी नहीं होती, लेकिन जब हम हार जाते हैं, तो भारत के वामपंथ विरोधी लोग, ज्यादा सुंदर तरीके से नृत्य पेश करते हैं. कॉरपोरेट घराने के लोग, संघ के लोग, संकीर्ण सांप्रदायिक लोग, साम्राज्यवाद की वकालत करनेवाले उनके अवधूत लंगोटा बांध कर हमको गाली देने के लिए अखाड़े में उतर आते हैं. वही स्थिति अभी फिर होनेवाली है.

7-   ऐसे में वामपंथी राजनीति की अब क्या संभावनाएं हैं. लोग कहते हैं कि यह सिर्फ विचारों की ही पार्टी है और अब यह लंबे समय के लिए हाशिये पर चली जायेगी. आप क्या सोचते हैं?

        लड़ाई होगी, फिर से हम लड़ेंगे. लड़ते रहे हैं और लड़ते रहेंगे. वामपंथ को इतना कमजोर मत समझिए. हम सिर्फ विचारों की ही पार्टी नहीं हैं, बल्कि आचार-विचार दोनों की पार्टी हैं. अगर सिर्फ विचारों की पार्टी होती तो आज भी 12-14 सीटें कैसे मिलतीं और कई जगहों पर हमारा वोट शेयर कैसे बढ़ता? अभी हम केरल में हैं, त्रिपुरा में हैं. जब-जब पूंजीवाद चरम पर पहुंचेगा, वाम मोरचा उभरेगा और लोकतंत्र की सच्ची लड़ाई लड़ेगा. वामपंथ कभी हाशिये पर नहीं जा सकता. वामपंथ को हाशिये पर भेजने की बात करनेवाले आम चेयर पॉलिटिशयन हैं, जो वामपंथ के साथ सिर्फ अपना सरोकार दिखाते हैं और कहते हैं कि- ‘आइ सिम्पैथाइज विथ लेफ्ट, बट...’ इनके लिए अकबर इलाहाबादी का एक शेर है- लीडर को रंज तो बहुत है मगर आराम के साथ। कौम के गम में डिनर लेते हैं वो काम के साथ।। ये ऐसे वामपंथी हैं, जो कमरे के अंदर से बाहर निकलना भी नहीं चाहते, जिनको पड़ोसी भी नहीं जानते कि इनका विचार वामपंथी है कि नहीं. लेकिन भरी सभाओं में इनके चित्कार को सुन कर लगता है कि ये वाम के नये अवतार हैं. वाम को सबसे ज्यादा इन्हीं से खतरा है. वाम को इनसे भी बचना होगा और इनमें से सही तथ्यों को निकालकर संघर्षों में लाठी डंडे खाने के लिए घसीटना होगा, ताकि ये बौद्धिकी समाजवाद से लेकर के प्रायोगिक समाजवाद में आ जायें.

8-   क्या किन्हीं परिस्थितियों में भाजपा-विरोध के आधार पर गैर-भाजपा राजनीतिक दलों के किसी बड़े गंठबंधन की संभावना बन सकती है?

        हमारे लिए कोई भाजपा विरोध नहीं है. हम नेताओं का विरोध नहीं करते. अगर हम ऐसा करते तो राम विलास पासवान को कभी बगल में नहीं बैठने देते. हम नीतियों के आधार पर विरोध करते हैं. कल तक वे कहते थे कि मेरी सबसे बड़ी गलती थी कि मैं एनडीए की सरकार में चला गया, लेकिन आज फिर उसी गोद में दोबारा बैठ गये. रामविलास पासवान वह निर्मल जल हैं, जो हर बरतन में ढल जाते हैं. मैं इसको इसलिए कह रहा हूं कि जब वे राजनीतिक वनवास में थे, तो कम्यूनिस्ट पार्टी की बदौलत ही आप राज्यसभा में आये. यह देखने की जरूरत है कि जो दलित राजनीति कर रहे थे और हाशिये पर पड़े दलितों की चर्चा करते हुए कहते थे कि मनुवाद ने उन्हें बरबाद किया है, वे सभी आज कहां पहुंच गये? सब के सब मनुवाद की पार्टी में पहुंच गये. अब इन्हें मनुवाद नहीं, बल्कि मनुहारवाद दिखायी दे रहा है. इनका बस एक ही नारा है- रीजन इज राइट, फ्यूचर इज ब्राइट. इसलिए इनके लिए कभी वीपी सिंह सही थे, तो आज नरेंद्र मोदी सही हैं. ये सभी आज राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में जनवाद ढूंढ रहे हैं. और इसमें वे सफल भी हो गये हैं, क्योंकि इनका व्यक्तिवाद जो है, वही देश का जनवाद है. इनका विकास ही देश का विकास है. इनकी करोड़ों की हैसियत बढ़ती है, तो दलित समाज की हैसियत बढ़ती है, भले ही दलित हाशिये पर पड़े रहें. रामविलास पासवान जी जब रेल मंत्री थे, तब सभी रेलवे स्टेशन पर से नि:शुल्क पानी की टंकी बंद करा कर और सबके हाथ में 12 रुपये की कॉरपोरेटी बोतल पकड़ा दी. ये दलितवाद के साथ-साथ बहुत बड़े पूंजीवाद के समर्थक हैं.

9-   इस जनादेश के बाद कई क्षेत्रीय पार्टियों का सफाया हो गया. तो क्या इनका अस्तित्व अब खतरे में है? क्योंकि कई नेता कहते रहे हैं कि क्षेत्रीय दलों को लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ना चाहिए, इससे स्थायी सरकार बनाने में बाधा होती है?

        मैं नहीं मानता कि छोटी और क्षेत्रीय पार्टियों का अस्तित्व इतना जल्दी खत्म हो जायेगा. क्योंकि छोटी पार्टियां ‘इब्नुल वक्त’ (हवा का रुख पहचाननेवाला) की तरह हैं. एनडीए में शामिल दो दर्जन दल इसकी मिसाल हैं. दूसरी ओर, आज भी प्रतिरोध की शक्तियां अपने वैचारिक प्रतिरोध के आधार पर खड़ी हुई हैं. वे सभी उभरेंगी और जल्द ही उभरेंगी. ज्यों-ज्यों जनता के ऊपर कठिनाइयों का बोझ बढ़ेगा, त्यों-त्यों वे आंदोलन का स्वरूप अख्तियार करेंगी. जब-जब अंतरराष्ट्रीय वित्तीय पूंजी की चोट बढ़ेगी, जितनी ही महंगाई का दंश झेलना पड़ेगा, जितना ही बेरोजगारी की समस्या का जबरदस्त छलांग उठेगा, और तब देश के अंदर दो तरह की शक्तियों का उदय दिखायी देगा कि- 125 करोड़ के देश में 25 करोड़ एक तरफ और 100 करोड़ एक तरफ होंगे. यानी हाशिये पर पड़े 100 करोड़ लोग और खाये-अघाये 25 करोड़ लोग. इन सब के बीच सच तो यह है कि वामपंथ ही उभार लेगा, जो लोकतंत्र का मोरचा संभालेगा. लेकिन आज और अभी से ही वामपंथ को एक नये तरीके से सोचना होगा कि कैसे वह इस परिस्थिति से निपटे. हमें एक पंच लाइन लेकर चलना होगा कि आजादी के बाद से जितनी भी नीतियां बनीं, सबके जरिये आज तक जनता में सिर्फ दुखों का बंटवारा हुआ, लेकिन अब यह जनता को ठानना होगा कि आइए हम सब संघर्ष करें, ताकि हमारे बीच सुखों का बंटवारा हो सके.

10-   तीसरे मोरचे के बारे में आपकी क्या राय है?

       इस शब्द जैसा कोई तत्व नहीं है. तीसरा मोरचा कोई सांप-बिच्छुओं का मेल नहीं हो सकता. वह तीसरा मोरचा हो ही नहीं सकता, जिसका कोई वैचारिक आधार न हो. बार-बार मुलायम सिंह कहते हैं कि तीसरे मोरचे की सरकार बनेगी. वे ऐसा क्यों कहते हैं, पता नहीं. मायावती ने कहा कि देश को दुखदायी बनाने में कांग्रेस की तरह बसपा को भी जनता ने जिम्मेवार मान लिया है. शुक्र है कि मायावती में यह ईमानदारी बड़ी देर से आयी, लेकिन मुलायम में तो इतनी भी ईमानदारी नहीं. देश मुलायम सिंह से जानना चाहता है कि समाजवाद और मसाजवाद में क्या अंतर है? आप कहते हैं कि कांग्रेस ने देश को बरबाद कर दिया और उसी कांग्रेस के साथ चिपके भी हुए हैं.

11-   समाजवाद और मसाजवाद! जरा इसे विस्तार से बतायेंगे क्या?

         एक बार 1963 में अपने भाषण में डॉक्टर राम मनोहर लोहिया ने कहा था कि कुछ लोगों ने कुछ लोगों का मसाज करना शुरू कर दिया है. कुछ नेता अपने चेलों से मसाज करवाने लगे हैं. उन्होंने यह कहा था कि समाजवाद को मसाजवाद में मत बदलो. डॉ लोहिया अपने संबोधन गांवों, कस्बों और छोटे शहरों में करते थे, लेकिन आज के समाजवादी नेता अपने संबोधन पांच सितारा होटलों में तरे हैं. पांच सितारा होटलों में पांच रुपये की चीज पचास रुपये में मिलती है और वह तो मसाज की एक बेहतरीन जगह है, जहां तमाम बड़े कॉरपोरेटी लोग और राजनीतिक लोग मसाज करते-करवाते हैं.

12-   आपने कहा कि संघर्ष और चुनाव दो अलग-अलग चीजें हैं. कॉरपोरेट के मौजूदा दौर में वाम के संघर्ष का स्वरूप क्या होगा. एक शहर के कॉलोनियों की तरह बंटने की शक्ल में आज मार्क्सवाद का क्या हाल हो गया है?

        मौजूदा दौर में चुनाव आम आदमी का नहीं, बल्कि कॉरपोरेट घरानों का चुनाव है. चुनाव-प्रचार पर, डिजिटल-प्रचार पर, सोशल मीडिया-प्रचार पर यहां तक कि स्टेज बनाने तक पर कॉरपोरेटी दखल है, जिसमें हम पिछड़ गये. हमने इन सब चीजों का इस्तेमाल ही नहीं किया. आधुनिक प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करने से हम विरक्त रहे. लेकिन अब यह करना पड़ेगा. अब कनेक्ट होने के लिए घर-घर जाने की जरूरत नहीं, बल्कि नयी तकनीकों का इस्तेमाल करने की जरूरत है. यह विडंबनात्मक तो लगता है, लेकिन फिर भी मैं वामपंथी नेताओं से कहना चाहता हूं कि अब अंधेरे गलियारे में टहलिये मत. ज्ञानचक्षु खोलिए और देखिए कि जमाना किस ओर जा रहा है. सभी वामपंथी धड़ों से पूछना चाहता हूं कि अंधेरे गलियारे में टहलते-टहलते हम सब कहां पहुंच गये? वाम मोरचे के परहेजवाद ने उसे टुकड़ों में बांट दिया है. मार्क्सवाद एक विस्तार दर्शन है, लेकिन हमने इसे कॉलोनियों में नहीं, बल्कि चम्मचों में बांट दिया है.

13-   तो क्या भविष्य में कोई ऐसी सूरत बनेगी, जब सारे वामपंथी दल एक साथ आ जायेंगे या चम्मचों से होते हुए कांटेदार चम्मचों में तब्दील हो जायेंगे?

        मुझे अब समझ में आता है कि अतिसंकीर्णतावाद, घनघोर साम्राज्यवाद, साम्प्रदायिक उन्माद और अंतरराष्ट्रीय वित्तीय पूंजी जब मजबूर करेगी, तो चम्मचों में बंटे हुए तमाम वामपंथी दल इकट्ठा होकर एक बड़ी कड़ाही में तब्दील होंगे. चम्मच से इन्हें कांटेदार चम्मच नहीं, बल्कि कड़ाही बनना होगा, तभी आंदोलन का विस्तार होगा और मार्क्स के विस्तृत दर्शन को एक नया स्थान मिलेगा. गरीबों के लिए लड़ाई लड़ी जायेगी और विकल्प की राजनीति के नये रास्ते खुलेंगे. अकेले लड़ने के स्थान पर तमाम लोगों के एक साथ, तमाम धर्मों-वर्गों के लोगों के एक साथ इकट्ठा होकर लड़ाई लड़ने कोशिश होनी चाहिए. क्योंकि मार्क्सवाद का पर्याय परहेजवाद में नहीं है. कल तक 24 कैरेट का सोना खोजते-खोजते अपने हाथ में पीतल लेकर टहलने लगे हैं, यह कैसी हमारी परिणति है और यह कैसा परहेजवाद है?

14-   अन्ना आंदोलन के समय ऐसा माना जा रहा था कि अरविंद केजरीवाल ने वामपंथ के हथियार को छीन लिया है. ऐसा है क्या?

        अन्ना आंदोलन का हस्र भी तो आपको पता होगा ना. जनरल वीके सिंह को पहुंचाकर अन्ना रालेगण पहुंच गये ना. ममता बनर्जी के पास भी गये थे, लेकिन वहां से भी वापस आकर फिर रालेगांव पहुंच गये. अन्ना ने तो जर्म्स कटर का प्रचार किया. अब यह कौन जानता है कि जर्म्स कटर दाद-खाज-खुजली मिटाता है कि नहीं. किसी ने अंदर जाकर देखा थोड़ी. अन्ना को यह बात समझनी चाहिए थी. जहां तक केजरीवाल की बात है, तो उन पर कुछ कहना अभी मुनासिब नहीं है. क्योंकि उनकी पार्टी के एक बड़बोले नेता ने कहा कि हमारी कोई धारा नहीं है- न हम सेंटर हैं, न लेफ्ट हैं और न राइट हैं. यानी वे अभी अंतरिक्ष में घूम रहे हैं.

15-  अब तो नरेंद्र मोदी जी हमारे देश के प्रधानमंत्री बन गये हैं. चुनाव-प्रचार के दौरान अपने भाषणों से उन्होंने जो लहर बनायी, उससे क्या एक नयी राजनीति का सूत्रपात हुआ. क्या कहेंगे आप?


         पहले तो प्रधानमंत्री बनने पर उन्हें ढेरों बधाइयां. पिछले सात-आठ वर्षों में नरेंद्र मोदी ने एक कला सीखी है, जिसे हम ‘क्लास एलिनिएशन’ (वर्ग उन्मूलन) कहते हैं- यानी अपने वर्ग शत्रुओं का सफाया करना, किनारे करना या हटा देना. 2007 में फिर से मुख्यमंत्री बनने के बाद से नरेंद्र मोदी जी ने इस कला के जरिये अपने विरोधियों को हटाना शुरू कर दिया था. इतनी सुंदर राजनीति कि जिन हाथों में कभी शमसीर थी, वे हाथ दया के लिए भीख मांग रहे थे. अब ऐसे में लहर तो बननी ही थी. मैं कभी नहीं कहता कि भारतीय इतिहास के शास्त्रों में शाम-दाम-दंड-भेद का इस्तेमाल नहीं किया जाता है. और वैसे भी राजनीति में मित्र कम, शत्रु ज्यादा होते हैं, इसलिए शाम-दाम-दंड-भेद अपनाने की जरूरत तो पड़ेगी ही. ऐसी राजनीति के लिए नरेंद्र मोदी जी को दाद तो देनी होगी और उनसे भारतीय राजनीतिक दलों को ऐसी राजनीति भी सीखनी भी होगी. उनके चातुर्य और उनके शब्दों के प्रयोग करने के तरीके पर उनकी प्रशंसा तो बनती है. लेकिन साथ ही यह भी कि निजता की नीचता और नीचता में निजता हमारी भारतीय राजनीति में उनके आने से शुरू होती है. अब आगे देखते हैं कि इस पूरे चुनावी गतिविधियों से उपजी नयी-नयी चीजों के साथ ही नयी सरकार के काम-काज का तरीका क्या होता है. इंतजार कीजिए...

Wasim Akram and Atul Kumar Anjan

Wednesday, April 23, 2014

शौक बड़ी चीज़ है... सच्ची

Sanjiv Saraf
कभी ग़ालिब ने मीर के लिए कहा था, ‘रेख़्ता के तुम ही उस्ताद नहीं हो गालिब, कहते हैं अगले जमाने में कोई मीर भी था...’  तब यह मीर की शायरी के लिए कहा गया था, लेकिन आज संजीव सराफ को उनकी उर्दू शायरी से मुहब्बत के लिए कहा जा सकता है कि सचमुच वे ‘रेख़्ता’ के उस्ताद हैं, जिन्होंने उर्दू शायरी का सबसे बड़ा आनलाइन ख़ज़ाना ‘रेख़्ता’ की नींव रखी...प्रभात ख़बर के लिए जब मैंने संजीव सराफ जी से बात की, तो उन्होंने अपने उर्दू शायरी के शौक और जुनून को कुछ इस तरह बयान फरमाया...

मेरी मुहब्बत का नज़राना है रेख़्ता : संजीव सराफ

         मौजूदा दौर इंटरनेट का दौर है. किसी भी हाल में हम इससे अछूते नहीं रह सकते. इसकी मकबूलियत की तस्दीक इस बात से होती है कि आज पूरी दुनिया इंटरनेट पर मौजूद है और हर काम के लिए लोग इंटरनेट का ही सहारा लेते हैं. इत्तेफाकन एक दिन मैं भी अपनी पसंदीदा गज़लें ढूंढ रहा था, लेकिन वे उस सलीके में मौजूद नहीं थीं, जैसा कि उन्हें होना चाहिए. मुझे इस दुश्वारी ने एक मशवरा दिया कि मैं एक ऐसी वेबसाइट शुरू करूं, जो पूरी तरह से देवनागरी लिपि में उर्दू शायरी की प्रमाणिकता का प्रतिमान बन जाये. मेरी इसी कोशिश ने रेख़्ता को जन्म दिया. उर्दू जबान से मेरी मोहब्बत का यह सबसे बड़ा सबूत है कि रेख्ता वेबसाइट तीन सौ साल से लेकर आज तक की शायरी का एक अनमोल ख़ज़ाना बन गयी है. आज अगर किसी फनकार की कोई किताब छपती है, तो वह कुछ लाइब्रेरियों तक ही सीमित होकर रह जाती है. लेकिन अगर कोई गजल रेख्ता पर पहुंचती है, तो वह पूरी दुनिया में मकबूलियत पाती है. यह नये फनकारों के लिए तो है ही, साथ ही मुल्क से बाहर बैठे हमारे अपनों के लिए भी है, जो शायरी से मुहब्बत करते हैं. मेरा मानना है कि किसी भी चीज़ को पाने के लिए जब तक आपके दिल में शिद्दत भरी मुहब्बत पैदा नहीं होगी, तब तक उसे आप हासिल नहीं कर सकते. मेरी मुहब्बत का नजराना आपके सामने है, अगर आपकी मुहब्बत का नज़राना भी हमें मिले, तो इससे बेहतर कोई और बात नहीं होगी.


कैसे हुई रेख़्ता वेबसाइट की शुरुआत
एक बड़े शायर का एक बेहतरीन शे’र है- 
                          उर्दू हमारे मुल्क की वाहिद ज़बान है। 
                       गंगा की जिसमें रूह तो जमुना की जान है।। 
आखिर जिस ज़बान में गंगा और जमुना जैसी पाकीज़ा नदियों की तासीर मिल रही हो और जिसके अशआरों, गजलों, नज्मों को पढ़-सुन कर गंगा-जमुनी तहज़ीब की महफिल में खुद के इज़हार-ओ-ख्यालात का मौका मिलता हो, तो भला कौन है जो इससे महरूम रहना चाहेगा. लेकिन वहीं अगर शायरी का इंतेहाई शौक रखनेवाले किसी शख्स को कोई शे’र, कोई ग़ज़ल या कोई नज़्म ढूंढने में मुश्किल हो रही हो, तो वह इस हद तक तो जायेगा ही कि उसका शौक मुकम्मल हो जाये. अपने इसी शौक को पूरा करने के लिए संजीव सराफ ने  www.rekhta.org  वेबसाइट की नींव रखी, ताकि उनके जैसा शायरी का इंतेहाई शौक रखनेवाला दुनिया का कोई भी शख्स एक अदद शे’र से महरूम न रह सके. मौजूदा वक्त में यह वेबसाइट पूरी दुनिया में सर्च की जा रही है और दुनिया भर में फैले उर्दूदां लोग इससे अपने शे’र पढ़ने के शौक को पूरा कर रहे हैं. 
         ‘रेख़्ता : बाब-ए-सुखन’ पर उर्दू के एक हजार मकबूल शायरों (ग़ालिब से लेकर अब तक) की तकरीबन दस हजार गजलें मौजूद हैं. महज दो लोगों से शुरू हुई इस वेबसाइट की खूबसूरती को बढ़ाते रहने के लिए आज 35 से ज्यादा लोग इसके नोएडा दफ्तर में काम कर रहे हैं. संजीव सराफ बताते हैं कि इस वेबसाइट से उन्हें कोई आमदनी नहीं हो रही है, फिर भी वे इसके लिए खर्च करने से जरा भी नहीं हिचकते. कारोबारी संजीव सराफ पॉलीप्लेक्स कॉरपोरेशन लिमिटेड नाम की कंपनी के मालिक हैं, जो पीइटी फिल्में बनानेवाली दुनिया की बड़ी कंपनियों में शुमार की जाती है. यह एक गैर-उर्दू तरबियत से वास्ता रखनेवाले सराफ की उर्दू शायरी से बेपनाह मुहब्बत ही है, जिसने उन्हें ऐसी वेबसाइट खड़ी करने के लिए मजबूर कर दिया. 

रेख़्ता की खासियत
जनवरी, 2013 में शुरू हुई इस वेबसाइट की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह उर्दू शायरी का सबसे बड़ा आनलाइन खजाना है. संजीव का मकसद रेख्ता के जरिये लोगों तक सिर्फ उर्दू शायरी पहुंचाना ही नहीं है, बल्कि देवनागरी, उर्दू और अंगरेजी, तीनों ज़बानों में उर्दू शायरी को मकबूलियत बख्शना है, जिससे गैर-उर्दूदां लोग भी बड़ी आसानी से उर्दू ज़बान की शहद जैसी तासीर को समझ सकें. 
          कहते हैं कि उर्दू मुहब्बत की जबान है. यकीनन इस बात का सबसे ज्यादा ख्याल रखा है संजीव ने. यही नहीं, इस पर मौजूद अशआरों, ग़ज़लों, नज़्मों की पुख़्तगी का खासा ख्याल रखा गया है, जो संजीव की उर्दू से रूहानी लगाव की तस्दीक करता है. कहते हैं कि नुक्ते के हेर-फेर से खुदा जुदा हो जाता है. नुक्ता यानी बिंदी, लेकिन संजीव ने नुक्ते का हेर-फेर नहीं होने दिया है, ताकि खुदा जुदा न हो सके. काबिल-ए-गौर है कि पाकिस्तान की राष्ट्रभाषा उर्दू होते हुए भी वहां उर्दू शायरी को लेकर इतनी बड़ी वेबसाइट मौजूद नहीं है. 


वेबसाइट की पहुंच
किसी भी तहजीब में उसकी ज़बान का हम किरदार होता है. ठीक वैसे ही हिंदुस्तानी तहजीब में उर्दू जबान का है. मौजूदा वक्त में रेख्ता पर शायरी का लुत्फ उठानेवालों में दुनिया के डेढ़ सौ से ज्यादा मुल्कों के लोग शामिल हैं, यह सिलसिला बढ़ता ही जा रहा है. इस वेबसाइट की शुरुआत से लेकर अब तक दुनिया के तकरीबन तीन लाख लोग इसे देख चुके हैं. रेख्ता की इस पहुंच को बरकरार रखने के लिए इसमें नयी तकनीकों का सहारा लिया जा रहा है. नयी तकनीक के तहत डेस्कटॉप-लैपटॉप से लेकर मोबाइल-टैबलेट तक इसकी मौजूदगी दर्ज कराने की जी-तोड़ कोशिश जारी है. 

सोशल मीडिया पर रेख्ता
मौजूदा वक्त में जिस तरह से सोशल मीडिया अपने शबाब पर है, ठीक उसी तरह इस पर गलत-सही चीजों की बाढ़ भी है. देखने में आता है कि अक्सर लोग सोशल साइटों पर कोई शे’र पोस्ट करते हुए यह ख्याल नहीं रखते हैं कि किस हर्फ पर नुक्ता होना चाहिए. लोगों की इस गलती को भी रेख्ता ने सुधारा है और कई लोग तो अपने दोस्त के गलत शे’र पोस्ट करने पर कमेंट में रेख्ता का वेब पता लिख कर मशवरा तक देते हैं कि पहले शे’र को सही-सही लिखना सीख लो. 

रेख़्ता की इ-लाइब्रेरी
इस सेक्शन में उर्दू की ऐसी पुरानी किताबों को जगह मिली है, जिनकी दुनिया में सिर्फ कुछ प्रतियां ही मौजूद हैं. आनलाइन आर्काइव में जाकर पुरानी जर्जर हो चुकी किताबों की स्कैन प्रति को देख कर जेहन खुद-ब-खुद उर्दू के गोल्डेन पीरियड में चला जाता है. मौजूदा वक्त में रेख़्ता की इ-लाइब्रेरी में उर्दू शायरी की एक हजार से ज्यादा पुरानी किताबें दर्ज हैं. 

नये फनकारों के लिए प्लेटफॉर्म
रेख़्ता के आफिस में एक स्टूडियो भी है, जहां नये फनकारों की गजलों को उनकी आवाज़ में रिकॉर्ड कर अपलोड किया जाता है. इसके अलावा बहुत से पुराने शायरों का कलाम पढ़ते हुए आडियो-वीडियो भी मौजूद है, जिसे सही-सही तलफ्फुज यानी उच्चारण के साथ देख-सुन कर सुहाने दौर की सच्ची शायरी का एहसास होने लगता है. नौजवान शायरों-फनकारों के लिए यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म मुहैया करता है, जिसके जरिये वे दुनिया भर में अपनी शायराना पहचान बना सकते हैं. जाहिर है, इतनी सारी खूबियों वाली इस वेबसाइट की पहुंच और पहचान तो बढ़नी ही है. अगर आपको भी शायरी का शौक है, तो पर अपनी शिरकत फरमाइए...

Office of Rekhta in Noida